सीआईए के हत्थे चढ़ा कुख्यात अजय उर्फ चंदगी

सोनीपत। सीआईए टीम ने हत्या, लूटपाट, जमीन कब्जाने और हत्या के प्रयास समेत कई संगीन अपराध को अंजाम दे चुके एक कुख्यात बदमाश अजय उर्फ चंदगी को गिरफ्तार किया है। पुलिस अजय से पूछताछ कर रही है, ताकि   उसके पूरे नेटवर्क तक पहुंचकर बाकी बदमाशों को भी गिरफ्तार किया जा सके। पुलिस अधीक्षक जशनदीप सिंह रंधावा ने बताया कि सीआईए-2 इंस्पेक्टर विवेक मलिक की टीम ने राजपुर गांव के बस स्टॉप के पास से अजय उर्फ चंदगी निवासी राजपुर को गिरफ्तार किया है। आरोपी के पास से एक कंट्री मेड पिस्टल तथा मैगजीन बरामद हुई हैं। पुलिस पूछताछ में सीआईए-2 ने खुलासा किया है कि अजय करीब 21 साल से अपराध की दुनिया में सक्रिय है। अजय ने ट्रेन लूटने के साथ-साथ हत्या, जमीनों पर कब्जे, लूटपाट व हत्या के प्रयासों जैसी करीब 16 संगीन वारदातों को अंजाम दिया है।
सीआईए के हत्थे चढ़ा कुख्यात अजय उर्फ चंदगी

अजय के पास से बरामद हुई कंट्री मेड पिस्टल,  पूछताछ में करीब डेढ़ दर्जन वारदातों का खुलासा,  न्यायालय में पेशकर लिया पुलिस रिमाण्ड पर

अजय ने 1999 में हिमालयन क्वीन ट्रेन में भी की थी लूटपाट

एसपी जशनदीप सिंह रंधावा ने बताया कि पुलिस पूछताछ में खुलासा हुआ है कि आरोपी अजय उर्फ चंदगी ने साल 1999 में अपने साथी क्रिमिनल्स के साथ मिलकर गन्नौर इलाके से होकर गुजर रही हिमालयन क्वीन एक्सप्रेस में सफर कर रहे यात्रियों के साथ लूटपाट की वारदात को अंजाम देते हुए अपराध की दुनिया में कदम रखा था। उसके बाद से लेकर अब तक वह करीब 16 संगीन वारदातों को अंजाम दे चुका है।

पूछताछ में इन वारदातों का हुआ खुलासा

1- साल 1999 में साथी बदमाशों के साथ मिलकर पानीपत गन्नौर के बीच हिमालयन क्वीन ट्रेन में लूटपाट की।

2- साल 2000 में गांव ललहेड़ी से एक बाइक लूटी।

3- साल 2001 में गांव गुहणा के रहने वाले दयानंद की उसके लडक़े के साथ मिलकर सोनीपत शहर में हत्या की।

4- साल 2003 में साथियों के संग मिलकर लड़सौली गांव में पैट्रोल पम्प पर लूटपाट की।

5-साल 2005 में साथी बदमाशों के साथ मिलकर बड़ी गांव में जमीन कब्जाई।

6- साल 2009 में राजपुर गांव में भी साथी बदमाशों के साथ मिलकर जमीन कब्जाई।

7-साल 2003 में कामी गांव लूट का प्रयास करते हुए हथियारों सहित गिरफ्तार हुआ।

8-साल 2007 में पटेल नगर में एक प्लाट पर जबरन कब्जा किया।

9- साल 2016 में कुख्यात संदीप बड़वासनी की हत्या का प्रयास किया।

10- साल 2008 में जेल में रहते अपने साथियों से जेल वार्डर पर सोनीपत शहर एरिया में हमला करवाया।

11- साल 2016 में अवैध हथियार सहित पकड़ा गया।

12- साल 2019 में गन्नौर स्थित शराब के ठेके पर गोली चलाई।

13- साल 2019 में गांव ललहेड़ी के पास से हथियारों और साथियों के दम पर गाड़ी छीनी।

14- साल 2019 में गन्नौर में सेठी सट्टेवाले पर फायरिंग की।

15- साल 2019 में थाना बढ़ी एरिया में शिव गंगा होटल के मालिक पर गोली चलाई।

16- साल 2019 में सुधीर खरखौदा को अवैध हथियार उपलब्ध करवाया।

17–  आरोपी थाना गन्नौर, औद्योगिक क्षेत्र बड़ी में दर्ज हत्या प्रयास, लूट, घर में घुसकर मारपीट कर हवाई फायर करने की घटनाओं में फरार चल रहा था। आरोपी को न्यायालय में पेशकर तीन दिन के पुलिस रिमाण्ड पर लिया गया है। शीघ्र ही घटना में शामिल अन्य आरोपियों को भी गिरफ्तार कर लिया जायेगा।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.